क्रिप्टोकरेंसी बाजार

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास
क्रिप्टो में निवेश से पहले जरूर करें वेरिफाई
आपको बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास OneCoin कोई ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर बेस्ड था ही नहीं। ब्लॉकचेन वैसी टेक्वनोलॉजी है जिस पर बिटक्वाइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी काम करती है। लोग केवल मार्केटिंग और उसकी बातों में आकर इनवेस्ट करने लगे थे। इस वजह से किसी भी नई क्रिप्टोकरेंसी में पैसे लगाने से पहले उसे वेरिफाई करने की सलाह लोगों को दी जाती है। फिलहाल मूल रूप से बुल्गारिया की रहने वाली रुजा इग्नातोवा FBI के टॉप 10 मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल है।

एम्स-दिल्ली का सर्वर छठे दिन भी डाउन, हैकर्स क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास ने क्रिप्टोकरेंसी में मांगे 200 करोड़ रुपये

नयी दिल्ली, 28 नवंबर (भाषा) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली से हैकर्स ने कथित तौर पर क्रिप्टोकरेंसी में करीब 200 करोड़ रुपये की मांग की है जिसका सर्वर लगातार छठे दिन खराब रहा। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी।

सेंधमारी का बुधवार को सुबह पता चला था। आशंका जताई जा रही है कि सेंधमारी के कारण लगभग 3-4 करोड़ मरीजों का डेटा प्रभावित हो सकता है। सूत्रों ने कहा कि सर्वर डाउन होने के कारण आपातकालीन इकाई में रोगी देखभाल सेवाएं, बाह्य रोगी, भर्ती रोगी और प्रयोगशाला अनुभाग को कागजी रूप से प्रबंधित किया जा रहा है। भारतीय कंप्यूटर आपात प्रतिक्रिया दल (सर्ट-इन), दिल्ली पुलिस और गृह मंत्रालय के प्रतिनिधि रैंसमवेयर हमले की जांच कर रहे हैं।

रैंसमवेयर हमले के कारण कंप्यूटर तक पहुंच बाधित हो जाती है और पहुंच देने के लिए हैकर धन की मांग करते हैं। दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) इकाई द्वारा 25 नवंबर को जबरन वसूली और साइबर आतंकवाद का मामला दर्ज किया गया था।

OneCoin Scam : खूबसूरती का जाल, बातों का प्रभाव और Crypto-Queen ने कर दिया था 30 हजार करोड़ से ज्यादा का स्कैम

ज्यादातर Cryptocurrency की वैल्यू फिलहाल काफी कम चल रही है। इसमें निवेशकों के काफी पैसे लगे हुए हैं। पिछले साल इसकी Cryptocurrency को लेकर काफी बातचीत चल रही थी। लेकिन, क्या आपको Crypto Queen Ruja Ignatova के बारे में पता है? Ruja Ignatova पर 30 हजार करोड़ से ज्यादा का स्कैम करने का आरोप है।

नई दिल्ली। Cryptocurrency को लेकर अभी ज्यादा चर्चा नहीं हो रही है। लेकिन, पिछले साल ये हॉट-टॉपिक बना हुआ था। इसकी वजह से काफी लोगों को अमीर बनने का भी मौका मिला। हालांकि, कई लोग अपनी जमा-पूंजी क्रिप्टो में लगाकर कंगाल भी हो गए। लेकिन, हम यहां पर Cryptocurrency के नाम पर हुए एक बड़े स्कैम के बारे में बात करने वाले हैं।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, क्रिप्टो के नाम पर बड़ा स्कैम Ruja Ignatova ने किया था। लोग इन्हें क्रिप्टो-क्वीन के नाम से भी जानते हैं। रुजा इग्नातोवा ने क्रिप्टो करेंसी की लोकप्रियता का फायदा उठाकर लोगों को फर्जी क्रिप्टो में पैसे लगवा दी थी।

साल 2014 में लॉन्च हुई थी OneCoin
लोग केवल उनकी बातों से प्रभावित होकर पैसे लगाने लगे थे। साल 2014 में पीएचडी होल्डर रुजा इग्नातोवा ने अपनी क्रिप्टोकरेंसी को लॉन्च किया था। हालांकि, ये क्रिप्टोकरेंसी का शुरुआती दौर था। लेकिन लोगों को इससे अमीर बनने के सपने दिखाए गए।

क्रिकेट जगत के टूटे सारे रिकॉर्ड, ऋतुराज गायकवाड़ ने रचा इतिहास, 6 बॉल में लगाए 7 छक्के, देखे यहाँ

Rituraj Gaykwad

क्रिकेट जगत के टूटे सारे रिकॉर्ड, रुतुराज गायकवाड़ ने इतिहास रचा, उत्तर प्रदेश के खिलाफ विजय हजारे ट्रॉफी क्वार्टर फाइनल मैच खेलते हुए एक ओवर में सात छक्के जड़े। गायकवाड़ घातक रूप में थे क्योंकि बल्लेबाज ने उत्तर प्रदेश के खिलाफ खेलते हुए सोलह मैक्सिमम छक्के मारे।

220 रनो की धमाकेदार पारी

गायकवाड़ ने शिवा सिंह को लगातार सात छक्के जड़े। ओवर में एक नो बॉल हुई जिसमें फैंस भी नजर आए। गायकवाड़ ने 159 गेंदों में 220 रनों की धमाकेदार पारी खेली जिससे महाराष्ट्र ने 50 ओवरों में पांच विकेट पर 330 रन बनाए।

gaikwad.1.1923159

ब्रूक ने लगाया तेज शतक

ब्रुक, इंग्लिश बल्लेबाजों में सबसे तेज टेस्ट शतक (80 गेंद) जमाने वाले तीसरे बल्लेबाज बन गए हैं। इंग्लैंड क्रिकेट टीम की ओर से गिलबर्ट जोसेफ ने साल 1902 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ द ओवल में खेले गए एक टेस्ट मैच में 76 गेंदों में शतक जमाया था। इस सूची में दूसरे नंबर पर विकेटकीपर बल्लेबाज जॉनी बेयरस्टो का नाम है, जिन्होंने इसी साल न्यूजीलैंड के खिलाफ नॉटिंघम टेस्ट में 77 गेंदों में शतक ठोका था।

डकेट और क्रॉली की जोड़ी, पाकिस्तान में 200 से ज्यादा रनों की साझेदारी करने वाली इंग्लैंड की पहली सलामी जोड़ी बन गई है। इसके अलावा यह पाकिस्तान की धरती पर 200 से अधिक रन जोड़ने वाली सिर्फ दूसरी मेहमान ओपनिंग जोड़ी भी बनी है। बता दें राहुल द्रविड़ और वीरेंद्र सहवाग की भारत की प्रतिष्ठित सलामी जोड़ी ने 2006 में पहले विकेट के लिए 410 रन जोड़े थे।

डकेट और क्रॉली की जोड़ी द्वारा बनाए गए अन्य क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास रिकॉर्ड्स

डकेट और क्रॉली ने पाकिस्तान के गेंदबाजों की खूब पिटाई की। इस जोड़ी ने सिर्फ 13.4 ओवर में टीम का आंकड़ा 100 तक पहुंचा दिया। यह किसी टेस्ट की शुरुआती पारी में किसी टीम द्वारा सबसे तेज 100 रन के स्कोर बनाने का रिकॉर्ड बन गया है। इस सलामी जोड़ी ने पहले सत्र में 174 रन जोड़ डाले। यह टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहले सत्र में सबसे ज्यादा स्कोर करने का नया रिकॉर्ड है।

किसी एक टीम द्वारा टेस्ट के एक दिन में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड श्रीलंका के नाम दर्ज है। श्रीलंका ने 2002 में बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे दिन 509 रन बनाए थे। इंग्लिश टीम आज इस विश्व रिकॉर्ड को तोड़ने से चूक गई है।

इन शहरों से होंगी डिजिटल रुपया पायलट प्रोजेक्ट की शुरुवात

खुदरा लेन-देन के लिए डिजिटल रुपये के पहले चरण के पायलट प्रोजेक्ट में मुंबई, नई दिल्ली, बेंगलुरु व भुवनेश्वर जैसे शहरों को शामिल किया गया है। उसके बाद के चरणों में अहमदाबाद, गंगटोक, गुवाहाटी, हैदराबाद, इंदौर, कोच्चि, लखनऊ, पटना और शिमला शहर शामिल होंगे शामिल होंगे। रिजर्व बैंक ने कहा है आवश्यकतानुसार अधिक बैंकों, उपयोगकर्ताओं और स्थानों को शामिल करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट का दायरा धीरे-धीरे बढ़ाया जा सकता है।

पायलट वास्तविक समय में डिजिटल रुपये के निर्माण, वितरण और खुदरा उपयोग की पूरी प्रक्रिया की मजबूती का परीक्षण करेगा। इस पायलट से मिले अनुभवों क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास के आधार पर भविष्य के पायलटों में e₹-R टोकन और आर्किटेक्चर की विभिन्न विशेषताओं और अनुप्रयोगों का परीक्षण किया जाएगा।

क्या है CBDC

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (central bank digital currency) किसी केंद्रीय बैंक की तरफ से उनकी मौद्रिक नीति के अनुरूप नोटों का डिजिटल स्वरूप है। इसमें केंद्रीय बैंक पैसे छापने के बजाय सरकार के पूर्ण विश्वास और क्रेडिट द्वारा समर्थित इलेक्ट्रॉनिक टोकन या खाते जारी करता है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी डिजिटल एक करेंसी कानूनी टेंडर है। 30 मार्च, 2022 को सीबीडीसी जारी करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 में संशोधनों को सरकार क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास ने राजपत्र अधिसूचना के माध्यम से अधिसूचित की गई। CBDC फिएट मुद्रा के समान है और फिएट करेंसी के साथ इसे वन-ऑन-वन एक्सचेंज किया जा सकता है। सीबीडीसी, दुनिया भर में, वैचारिक, विकास या प्रायोगिक चरणों में है।

दो तरह की होगी क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास CBDC
– Retail (CBDC-R): Retail CBDC संभवतः सभी को इस्तेमाल के लिए उपलब्ध होगी
– Wholesale (CBDC-W) : इसे सिर्फ चुनिंदा फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस के लिए डिजाइन किया गया है

आरबीआई CBDC की शुरुआत क्यों कर रहा है?

भारतीय रिजर्व बैंक सीबीडीसी को वैध मुद्रा (लीगल मनी) के रूप में जारी करेगा। ये देश की करेंसी का एक डिजिटल रिकॉर्ड या टोकन होगा जिसे लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। RBI को सीबीडीसी की शुरूआत से कई तरह के लाभ मिलने की उम्मीद है, जैसे कि नकदी पर निर्भरता कम होना, मुद्रा प्रबंधन की कम लागत और निपटान जोखिम में कमी। यह आम जनता और व्यवसायों को सुरक्षा और तरलता के साथ केंद्रीय बैंक के पैसे का एक सुविधाजनक, इलेक्ट्रॉनिक रूप प्रदान कर सकता है और उद्यमियों को नए उत्पाद और सेवाएं बनाने के लिए एक मंच प्रदान कर सकता है।

भारत में मुद्रा का डिजिटलीकरण मौद्रिक इतिहास में अगला मील का पत्थर है। रिजर्व बैंक का कहना है कि डिजिटल रुपये से पेमेंट सिस्टम और सक्षम बन जाएगा। ट्रांजेक्शन कॉस्ट घटने के अलावा CBDC की सबसे खास बात है कि RBI का रेगुलेशन होने से मनी लॉन्ड्रिंग, टेरर फंडिंग, फ्रॉड की आशंका नहीं होगी। इस डिजिटल करेंसी से सरकार की सभी अधिकृत नेटवर्क के भीतर होने वाले ट्रांजेक्शंस तक पहुंच हो जाएगी। सरकार का बेहतर नियंत्रण होगा कि पैसा कैसे देश में प्रवेश करता है और प्रवेश करता है, जो उन्हें भविष्य के लिए बेहतर बजट और आर्थिक योजनाओं के लिए जगह बनाने और कुल मिलाकर अधिक सुरक्षित वातावरण बनाने की अनुमति देगा।

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 460
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *